Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Admin
 Bookmark
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
Full Site Search
  Full Site Search  
 
Tue Dec 18 01:34:43 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Gallery
News
FAQ
Trips
Login
Feedback
Advanced Search

News Posts by Anupam Enosh Sarkar*^~

Page#    Showing 6 to 10 of 11903 news entries  <<prev  next>>
  
Dec 02 (07:45) बड़ी सहूलियत : लखनऊ से सीतापुर का सफर जल्द 30 रुपये में (www.livehindustan.com)
Commentary/Human Interest
NER/North Eastern
0 Followers
2258 views

News Entry# 370604  Blog Entry# 4060950   
  Past Edits
Dec 02 2018 (07:46)
Station Tag: Sitapur Junction/STP added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739

Dec 02 2018 (07:46)
Station Tag: Lucknow Junction NER/LJN added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739
लंबे समय से ऐशबाग-सीतापुर पर ट्रेन चलने का इंतजार अब बस खत्म होने वाला है। जल्द ही ऐशबाग से सीतापुर के बीच पैसेंजर ट्रेनें और मालगाड़ियां दौड़ेंगी। आमान परिवर्तन के बाद तैयार हुए इस रूट पर यात्रियों संग व्यापारियों को भी फायदा मिलेगा। एक तरफ यात्रियों को जहां सीतापुर के लिए तीन गुना कम किराया देना पड़ेगा, वहीं व्यापारियों को सहूलियत मिलेगी। इसके लिए सीतापुर से सटे स्टेशन खैराबाद रेलवे स्टेशन में पहली बार गुड्स साइडिंग तैयार किया गया है। पूर्वोत्तर रेलवे लखनऊ मंडल का यह पहला गुड्स साइडिंग स्टेशन है। यहां से लखनऊ समेत स्थानीय उद्योग और किसानों को देशभर में कहीं भी सामान भेजना आसान और सस्ता होगा। मीटरगेज वाला ऐशबाग-सीतापुर ऐतिहासिक रेलखंड अब पूरी तरह ब्रॉडगेज में परिवर्तित हो गया है। यात्रियों को सीतापुर जाने के लिए अभी 91 रुपये खर्च करने पड़ रहे हैं। ट्रेन चलने के बाद यात्री मात्र 30 रुपये में सीतापुर पहुंचेंगे। वहीं, सीतापुर जाने...
more...
वाले दैनिक यात्रियों को भी खासी राहत मिलेगी। पूर्वोत्तर रेलवे अधिकारियों की मानें तो ऐशबाग-सीतापुर रूट को दिल्ली, पंजाब, जम्मू कश्मीर के वैकल्पिक रूट के तौर पर तैयार किया जाएगा। पहला गुड्स टर्मिनल जो सीधे हाइवे से जुड़ा: खैराबाद रेलवे स्टेशन पर तैयार पूर्वोत्तर रेलवे का पहला गुड्स टर्मिनल ऐसा टर्मिनल है, जिसको सीधे हाइवे से जोड़ा गया है। यहां पर एक बड़ा प्लेटफार्म तैयार किया गया है, जिससे यहां पर ट्रकों से लदकर आने वाला माल सीधे ट्रेन तक पहुंचेगा। अनलोड करने के लिए भी ट्रेनों से माल को उतारकर सीधे ट्रकों में लादा जाएगा। इससे व्यापारियों का समय बचेगा और रेलवे को निगरानी करने में खासी मुश्किलें नहीं उठानी होंगी। ट्रक माल लादकर सीधे हाइवे के जरिए दूसरे शहरों के लिए आसानी से रवाना हो जाएंगे।
  
Dec 02 (07:44) यशवंतपुर में नहीं लगी पैंट्रीकार (www.livehindustan.com)
Commentary/Human Interest
SER/South Eastern
0 Followers
1817 views

News Entry# 370603  Blog Entry# 4060947   
  Past Edits
Dec 02 2018 (07:45)
Station Tag: Tatanagar Junction/TATA added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739
Stations:  Tatanagar Junction/TATA  
टाटानगर से यशवंतुपुर साप्ताहिक एक्सप्रेस में शुक्रवार को पैंट्रीकार नहीं लगी। रेलवे के अनुसार तकनीकी खराबी के कारण पैंट्रीकार नहीं लगाया गया है।इधर, पैंट्रीकार नहीं लगने से 1898 किमी दूर के यात्रियों को दिक्कत होगी। जबकि, दो दिनों में पैंट्रीकार में सुधार नहीं होने से टाटा-अमृतसर जलियांवाला बाग एक्सप्रेस में सोमवार को पैंट्रीकार नहीं लग पाएगा। क्योंकि दोनों ही साप्ताहिक ट्रेनों में एक ही पैंट्रीकार का इस्तेमाल परिचालन शिड्यूल के अनुसार होता है।
  
Dec 02 (07:43) लोकोशेड पुल: अब कंटेनर डिपो ने रोका निर्माण का कदम (www.livehindustan.com)
Commentary/Human Interest
NR/Northern
0 Followers
1807 views

News Entry# 370602  Blog Entry# 4060944   
  Past Edits
Dec 02 2018 (07:44)
Station Tag: Moradabad Junction/MB added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739
Stations:  Moradabad Junction/MB  
लोकोशेड पुल निर्माण के लापरवाहों को एक और बहाना मिल गया। बड़ौदा हाउस ने 28 फरवरी तक काम पूरा करने में मांगी गई समय की मोहलत स्वीकार कर ली है। इस बीच रेलवे की निर्माण एजेंसी कंट्रेनर डिपो की दीवार को काम की सुस्ती का एक बहाना जुटा लिया।सूत्रों की मानें तो रेलवे लाइन के किनारे पुल के मुख्य फाउंडेशन का निर्माण होना है। नए नक्शे के आधार पर एक फाउंडेशन में सोलह खंभे बनेंगे। रेलवे लाइन के पार यानी फव्वारा दिशा में बनने वाला फाउंडेशन कंटेनर डिपो परिसर में खड़ा होगा। रेलवे की निर्माण एजेंसी ने एक साथ दोनों स्थान पर फाउंडेशन के खंभे बनाने का दावा करके शुक्रवार को काम शुरू नहीं किया। निर्माण कंपनी के एमडी मनुदेव का कहना है कि अभी कंटेनर डिपो क्षेत्र में स्थान को लेकर थेाड़ी दिक्कत है। इस दौरान फव्वारा क्षेत्र का काम शुरू नहीं हो पाएगा। जैसे ही रेलवे की ओर...
more...
से काम का माहौल दिया जाएगा उसके बाद दो टीमें एक साथ काम में जुट जाएंगी। वर्ष 2015 में स्वीकृत यह पुल रेलवे के सुस्त निर्माण काम का नमूना बनता जा रहा है। वर्ष 2017 के मार्च तक रेलवे ने इसे पूरा करने का टारगेट एजेंसी को दिया था। उसके बाद यह काम गति नहीं पकड़ सका है। रेल अफसरों को इस काम को लेकर सांसद से लेकर न्यायपालिका के निशाने पर आना पड़ा है।सेतु निगम ने झोंकी ताकत, फाउंडेशन की बुनियाद रखीसेतु निगम ने शुक्रवार को काम तेज किया। दिल्ली दिशा के निर्माण को रेलवे फाउंडेशन से जोड़ने का काम शुरू किया। चौबीस मीटर लंबे स्पैन बनाने के लिए एजेंसी ने फाउंडेशन का बेस तैयार किया। टीम ने दिन भर इसके लिए काम किया। 48 खंभों के ठोकर के लिए जमीन में गिट्टी भरी गई।रेलवे हिस्से का निर्माण अभी भी ठपरेलवे की निर्माण एजेंसी ने रेल लाइन के किनारे मुख्य फाउंडेशन बनाने के कार्य की शुरुआत नहीं की। एजेंसी ने 28 फरवरी तक काम पूरा करने का टारगेट दिया था। रेलवे लाइन के दोनों ओर मुख्य फाउंडेशन बनने हैं। सोलह-सोलह खंभें पचीस मीटर गहराई तक बनेंगे। एक खंभे की बोरिंग तीन दिन में संभव होगी।
  
Dec 02 (07:35) दुहाई से साहिबाबाद तक रैपिड रेल के काम की तैयारी पूरी (www.livehindustan.com)
Metro
0 Followers
1195 views

News Entry# 370601  Blog Entry# 4060935   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
यूपी के हिस्से में नहीं हैं ज्यादा अड़चनें, मार्च 2019 तक काम की संभावनाचुनाव में जाने के पहले केंद्र सरकार प्रोजेक्ट को दे सकती है हरी झंडीमेरठ। मुख्य संवाददातामेरठ-दिल्ली रैपिड रेल कॉरिडोर के साहिबाबाद से दुहाई तक पहले चरण में काम शुरू करने की औचारिकता के लिए केंद्र सरकार की हरी झंडी का ही इंतजार है। एनसीआरटीसी ने यूपी में पड़ने वाले इस हिस्से से काम की शुरुआत की योजना इसलिए ही बनाई थी कि यहां कोई अड़चन नहीं है।रैपिड रेल का ट्रैक बनाने के पहले साहिबाबाद से दुहाई के बीच सड़क चौड़ीकरण का काम शुरू हो गया है। तारों की शिफ्टिंग हो रही है। एनसीआरटीसी अधिकारी हर दिन इसकी मॉनिटरिंग कर रहे हैं। नगर निगम गाजियाबाद ने एनसीआरटीसी को स्थायी तौर पर 15 हजार 470 वर्ग मीटर जबकि अस्थायी तौर पर 82 हजार 104 वर्ग मीटर जमीन हैंडओवर कर दी है। ट्रैक निर्माण के समय जनता की सुविधा के लिए...
more...
अस्थाई रूप से दी गई जमीन पर व्यवस्थाएं की जाएंगी और बाद में इसे लौटा दिया जाएगा। दिल्ली-मेरठ रैपिड रेल कॉरिडोर रूट में पहले चरण में सात स्टेशन हैं। इनमें साहिबाबाद, गाजियाबाद, गुलधर, दुहाई, मुरादनगर, मोदीनगर उत्तर और मोदीनगर दक्षिण शामिल हैं। रैपिड रेल के इस हिस्से के लिए टेंडर प्रक्रिया भी तेजी से चल रही है।रैपिड रेल प्रोजेक्ट एक नजर में:82 किलोमीटर प्रस्तावित है मेरठ-दिल्ली रैपिड रेल160 किमी प्रति घंटा होगी अधिकतम और 100 होगी न्यूतम रफ्तार32000 करोड़ की लागत आएगी रैपिड रेल प्रोजेक्ट परऐसे आएगा पैसा40 प्रतिशत पैसा देगी यूपी और केंद्र सरकार60 प्रतिशत पैसा ऋण लेकर जुटाया जाएगाअहम तारीखें2024 में कर सकेंगे रैपिड रेल में सफर2018 में ही काम शुरू करने की है तैयारीदुहाई और मोदीपुरम में डिपोरैपिड रेल के लिए गाजियाबाद के दुहाई और मेरठ के मोदीपुरम में डिपो बनाया जाना है। इसके लिए जमीन की तलाश एवं अन्य जरूरी औपचारिकताएं पूरी की जा रही हैं।................................................................रैपिड रेल की राह में अड़चनें भी हजारमेरठ। मेरठ से दिल्ली के बीच रैपिड रेल प्रोजेक्ट में अड़चनें भी हजार हैं। दिल्ली सरकार को अपने हिस्से के लिए करीब एक हजार करोड़ रुपये देने हैं। यह रकम देने में दिल्ली सरकार ने असमर्थता जताई है। दूसरी तरफ यूपी सरकार ने भले ही सहमति दे दी हो पर अभी तक अपने हिस्से के पांच हजार करोड़ नहीं दिए जा सके हैं।मेरठ में रैपिड रेल मेट्रो के पहले आ सकती है। रैपिड रेल का काम एक जुलाई 2018 को शुरू हो जाना था पर ऐसा नहीं हो पाया। एनसीआरटीसी के एमडी ने दावा किया था कि इस साल के अंत तक काम शुरू हो जाएगा, पर अगले एक महीने के अंदर यह प्रक्रिया पूरी होना थोड़ा मुश्किल भी है। अभी तक न ही रैपिड रेल को केंद्रीय कैबिनेट की मंजूरी नहीं मिली है और न ही इसकी टेंडर प्रक्रिया पूरी तरह फाइनल हुई है। हालांकि मेरठ और गुलधर में एनसीआरटीसी ने दफ्तर खोल दिए हैं पर इनमें अभी नियुक्तियां नहीं हुई हैं।
  
Dec 02 (07:33) प्रोजेक्ट हैंडओवर करने की तैयारी (www.livehindustan.com)
Commentary/Human Interest
ECR/East Central
0 Followers
2121 views

News Entry# 370600  Blog Entry# 4060933   
  Past Edits
Dec 02 2018 (07:33)
Station Tag: Janakpur/JNKPE added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739

Dec 02 2018 (07:33)
Station Tag: Bardibas/NR-BRDS added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739

Dec 02 2018 (07:33)
Station Tag: Jaynagar/JYG added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739
इंडो-नेपाल रेल प्रोजेक्ट के प्रथम चरण का शुभारंभ अब नये वर्ष में होने के आसार हैं। विवाह पंचमी के मौके पर आगामी 12 दिसंबर से जयनगर भाया जनकपुर नेपाल के कुर्था तक 35 किमी की दूरी में ट्रेन परिचालन शुरू होने की चर्चा पर विराम लग गया है।भारत-नेपाल मैत्री रेल परियोजना का काम देख रही संस्था इरकॉन इंटरनेशनल के द्वारा अभी तक नेपाल रेलवे को प्रथम चरण का प्रोजेक्ट हेंड ओवर नहीं किया गया है। प्रथम चरण का काम पूरा हो गया है। इरकॉन के जीएम रवि सहाय के अनुसार नेपाल के रेल डीजी से संपर्क किया जा रहा है। जानकार सूत्रों के मुताबिक नेपाल के रेल महानिदेशक बलराम मिश्रा नयी दिल्ली में भारत सरकार के विदेश मंत्रालय व रेल मंत्रालय के अधिकारियों से बातचीत कर वापस गुरुवार को काठमांडू लौटे हैं। सेवा शुरू करने को ले अभी भी कई मामलों पर निर्णय होना है। दोनों देश के बीच इस अंतर्राष्ट्रीय...
more...
रेल प्रोजेक्ट को ले एमओयू पर हस्ताक्षर होने हैं। इस प्रक्रिया में कुछ वक्त लग सकता है। वर्ष 2010 में स्वीकृत इंडो-नेपाल रेल प्रोजेक्ट की लागत 548 करोड़ से बढ़कर साढे़ सात सौ करोड़ हो चुकी है। वर्ष 2012 से काम शुरू हुआ। जयनगर स्थित इरकॉन के कैंप कार्यालय से परियोजना का संचालन किया जा रहा है। जयनगर से नेपाल के बिजलपुरा तक 52 किमी में पूर्व के नैरो गेज को मीटर गेज में बदलने व बिजलपुरा से वर्दीवास तक 17किमी में नयी रेल लाईन बिछानी है। प्रथम चरण में जयनगर से कुर्था तक, द्वितीय चरण में कुर्था से बिजलपुरा तक व तीसरे चरण में वर्दीवास तक परियोजना पर काम होना है। हालांकि दूसरे चरण का काम भी तेजी से चल रहा है।
Page#    11903 news entries  <<prev  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy