Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Admin
 Followed
 Rating
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
Full Site Search
  Full Site Search  
 
Fri Oct 19 00:23:30 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Gallery
News
FAQ
Trips
Login
Feedback
Advanced Search

News Posts by পূর্বা এক্সপ্রেস*^

Page#    Showing 1 to 5 of 76 news entries  next>>
  
Oct 12 (22:07) बिहार के कैमूर में ट्रेन की चपेट में आने से 5 यात्रियों की मौत, 5 घायल (navbharattimes.indiatimes.com)
Major Accidents/Disruptions
ECR/East Central
0 Followers
789 views

News Entry# 364252  Blog Entry# 3893596   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
कैमूरबिहार के कैमूर जिले में शुक्रवार को ट्रैक पार करने की कोशिश कर रहे कई लोग तेज रफ्तार ट्रेन की चपेट में आ गए। इस हादसे में पांच लोगों की मौत हो गई और पांच लोग गंभीर रूप से घायल बताए जा रहे हैं। जानकारी के अनुसार, यह घटना कैमूर जिले के भभुआ रोड रेलवे स्टेशन के पास की है। घटना के वक्त सभी लोग वाराणसी-रांची इंटरसिटी एक्सप्रेस से उतर कर भभुआ रोड स्टेशन पर रेलवे ट्रैक पार करने की कोशिश कर रहे थे।मुगलसराय के डिवीजनल रेलवे मैनेजर (डीआरएम) पंकज सक्सेना ने बताया कि हादसे का शिकार हुए लोग ट्रैक को पैदल और दौड़ कर पार करने की कोशिश कर रहे थे। उस ट्रैक पर लालकुआं एक्सप्रेस तेजी से आ रही थी, जिसे वे देख नहीं पाए और हादसे का शिकार हो गए। उन्होंने बताया कि अब तक मृतकों की पहचान नहीं हो पाई है। इस हादसे का शिकार हुए मृतकों...
more...
में से चार महिलाएं और एक पुरुष हैं।इस हादसे में पांच लोग गंभीर रूप से घायल भी हुए हैं। हादसे की सूचना पाकर घटनास्थल पर पहुंची पुलिस ने सभी घायलों को इलाज के लिए नजदीकी अस्पताल में पहुंचाया। कई घायलों की हालत गंभीर बताई जा रही है। बता दें कि मुगलसराय डिवीजन पूर्वी केंद्रीय रेलवे (ईसीआर) जोन का हिस्सा है जिसका मुख्यालय बिहार के हाजीपुर में है। जब यह हादसा हुआ, उस वक्त लालकुआं एक्सप्रेस हावड़ा से चल कर गोरखपुर को जा रही थी। (एजेंसी इनपुट के साथ)
  
Cookies on the Navbharat Times Website
Navbharat Times has updated its Privacy and Cookie policy. We use cookies to ensure that we give you the better experience on our website. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on the Navbharat Times website. However, you can change your cookie setting at any time by clicking on our Cookie Policy link at any time. You can also see our Privacy Policy
उत्तर प्रदेश समाचार
देखें
...
more...
नवरात्र का पहला दिन कैसा गुजरेगा आपका
उत्तर प्रदेश के रायबरेली में बुधवार तड़के न्यू फरक्का एक्सप्रेस की 6 बोगियां पटरी से उतर गईं। इस हादसे में पांच लोगों की मौत हो गई जबकि कई यात्री घायल हैं। मौके पर राहत-बचाव का कार्य जारी है और पुलिस-एनडीआरएफ की टीमें मौजूद हैं। आगे तस्वीरों में देखिए, कितना भयानक था यह हादसा...
हादसा कितना भयानक था, इसका अंदाजा इसी बात से लगा लीजिए कि हादसे के बाद बोगियों के पहिए निकलकर बिखरे पड़े हुए थे।
यह ट्रेन मालदा से रायबरेली होते हुए दिल्ली जा रही थी। जानकारी के मुताबिक, बुधवार तड़के रायबरेली के हरचंदपुर से 50 मीटर की दूरी पर न्यू फरक्का एक्सप्रेस की 6 बोगियां पटरी से उतर गईं। इसके बाद वहां अफरा-तफरी का माहौल बन गया।
यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हादसे का संज्ञान लिया है। उन्होंने जिलाधिकारी, SP, स्वास्थ्य अधिकारियों और NDRF को हरसभंव मदद पहुंचाने का निर्देश दिया है। सूत्रों के मुताबिक, रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्विनी लोहानी खुद घटनास्थल के लिए रवाना हो गए हैं।
हादसे के बाद मदद के लिए रेलवे की तरफ से हेल्पलाइन नंबर जारी किए गए हैं। जो इस प्रकार हैं- 05412-254145027-73677
शुरुआती जानकारी के मुताबिक, ट्रेन की छह बोगियां डिरेल हुई हैं।
(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)
  
नई दिल्ली
फ्लेक्सी फेयर की वजह से भारी भरकम किराये का बोझ झेल रहे रेल यात्रियों को जल्द ही राहत मिल सकती है। रेलवे बोर्ड ने राहत देने के लिए कई ऑप्शन तैयार किए हैं और अब उम्मीद की जा रही है कि अगले कुछ दिनों के भीतर रेलमंत्री पीयूष गोयल इनमें से किसी विकल्प को अपनी मंजूरी दे सकते हैं। हालांकि, रेल यात्रियों को कितनी बड़ी राहत मिलेगी, यह इस बात पर निर्भर करेगा कि रेलमंत्री किस विकल्प को अपनी मंजूरी देते हैं।
लवे बोर्ड सूत्रों के मुताबिक बीते लगभग
...
more...
एक साल से फ्लेक्सी फेयर से राहत देने के लिए रेलवे कवायद कर रहा है। इस मामले में रेलवे बोर्ड ने एक कमिटी का भी गठन किया था। इस कमिटी ने अपनी रिपोर्ट भी दे दी लेकिन इसके बाद भी रेलवे में विभिन्न स्तरों पर कमिटी की सिफारिशों पर विचार किया गया। सूत्रों का कहना है कि अब बोर्ड ने इन विकल्पों पर विचार करके रेलमंत्री को फाइल भेजी है।
बोर्ड के सूत्रों का कहना है कि आने वाले कुछ दिनों के भीतर ही रेलमंत्री खुद इस बारे में घोषणा कर सकते हैं। उल्लेखनीय है कि राजधानी, शताब्दी और दुरंतों जैसी प्रीमियम ट्रेनों में पूर्व रेलमंत्री सुरेश प्रभु के कार्यकाल में फ्लेक्सी फेयर सिस्टम लागू किया गया था। इस सिस्टम के तहत एक तय सीमा में सीटें बुक होने के बाद किराए में 10 फीसदी की बढ़ोतरी होती है, जो अधिकतम 50 फीसदी तक होती है।
फ्लेक्सी फेयर सिस्टम लागू होने के बाद से ही रेलवे को इन ट्रेनों से होने वाली आमदनी में 600 से 700 करोड़ रुपये सालाना का फायदा होता है। रेलवे की समस्या यह है कि अगर फ्लेक्सी फेयर को पूरी तरह से खत्म कर दिया जाता है तो रेलवे की यह अतिरिक्त आमदनी खत्म हो जाएगी। ऐसे में इसकी भरपाई कैसे होगी। रेलवे सूत्रों का कहना है कि इसी वजह से यह विकल्प भी दिया गया है कि पूरी तरह से स्क्रैप करने की बजाय स्कीम में कुछ बदलाव करके यात्रियों को राहत दी जाए।
  
पटना : सहरसा से पटना आ रही कोसी एक्सप्रेस में डकैतों ने धावा बोल दिया है. बंकाघाट से ट्रेन खुलने के बाद दीदारगंज ओवरब्रिज के पास ट्रेन को रोक लिया. इस दौरान रात के अंधेरे में करीब 9.30 बजे ट्रेन रोककर करीब दो दर्जन हथियारबंद डकैत ट्रेन के कोच में घुस गये. इस दौरान यात्रियों पर लोहे की रॅड से हमला बोल दिया गया. हमले में करीब एक दर्जन लोगों का सिर फूट गया और सभी यात्री दहशत में आ गये. ट्रेन में चीख-पुकार मच गया. डकैतों ने करीब आधे घंटे तक ट्रेन में कोहराम मचाया. इस दौरान करीब 40 यात्रियों से लूटपाट किया. डकैतों ने यात्रियों का मोबाइल फोन, पर्स, बैग कपड़े और कीमती सामान लूट लिया और मौके से फरार हो गये.पुलिस के पहुंचने तक अंधेरे में ट्रैक पर चीखते रहे यात्रीघटना के सूचना तत्काल बंकाघाट जीआरपी को दी गयी. इस पर जीआरपी प्रभारी दल बल के साथ मौके...
more...
पर पहुंचे. वहीं रेल एसपी अशोक कुमार सिंह भी मौके पर पहुंचे. घटना में घायल यात्रियों का प्राथमिक उपचार कराया गया और करीब 10.30 बजे ट्रेन पटना के लिए रवाना की गयी. जीआरपी ने घायल यात्रियों का बयान लिया है. यात्रियों ने बताया कि बंकाघाट से ट्रेन खुली थी. इसके बाद जैसे ही ट्रेन दीदारगंज ओवरब्रिज के पास पहुंची अचानक ट्रेन रुक गयी. इसके बाद डकैत ट्रेन में घुस गये और लूटपाट शुरू कर दिया. सबसे पहले डकैतों ने यात्रियों का मारना शुरू कर दिया. इससे सभी लोग डर गये और जिसके पास जो कुछ भी था वह डकैतों को दे दिया. करीब आधे घंटे तक लूटपाट करने के बाद डकैत ट्रेन से कूदकर भाग गये.भारतबंद के कारण लेट हुई थी ट्रेनदरअसल कोसी एक्सप्रेस सोमवार को लेट थी. ट्रेन का पटना जंक्शन पहुंचने का टाइम सुबह 10.30 बजे का है. इसके बाद यही ट्रेन पटना जंक्शन से हटिया के लिए जाती है. लेकिन, सोमवार को भारत बंद होने के कारण ट्रेन को कई जगहों पर रोका गया था. परिचालन बाधित था, इसलिए ट्रेन लेट थी. यह ट्रेन करीब 9.20 बजे बंकाघाट से खुली थी. अभी दीदारगंज ओवरब्रिज के नीचे पहुंची थी कि ट्रेन को रोक कर लूटपाट किया गया. यात्रियों की मानें में बंकाघाट में ही कुछ डकैत ट्रेन में चढ़ गये थे. जबकि, बाकी गैंग के सदस्य ओवरब्रिज के नीचे थे. ट्रेन में मौजूद डकैतों ने चेन पोलिंग करके ट्रेन को रोक दिया और फिर उनके साथी ट्रेन में चढ़ गये. फिर जमकर लूटपाट की गयी है.लूटपाट के बाद फायरिंग करते भागे डकैत यात्री को रिवाल्वर के बट से माराट्रेन में डकैती के बाद दो यात्रियों ने पटना साहिब जीआरपी को अपना बयान दर्ज कराया है. इनमें पूर्णिया का अमित कुमार सुमन और गौतम कुमार शामिल हैं. अमित कुमार ने बताया कि वह परीक्षा देने के लिए पटना आ रहे थे. भारत बंद के कारण ट्रेन बदलाघाट स्टेशन पर शाम चार बजे तक खड़ी रही. इसके बाद 9:30 बजे बंकाघाट आयी है. उन्होंने बताया कि डकैत फतुहा और बंकाघाट में ट्रेन में चढ़े हैं और इंटरसिटी में कनेक्टिंग कोच होने के कारण करीब 40 यात्रियों से लूटपाट की. इस दौरान उनके साथ छात्र गौतम कुमार भी थे. डकैत उनके मोबाइल फोन लूट रहे थे. जब उन्होंने विरोध किया, तो रिवाल्वर के बट से मारकर उनका सिर फोड़ दिया गया और दीदारगंज ओवरब्रिज के पास चेन पोलिंग करके ट्रेन से उतर गये. फतुहा के रहने वाले पवन को भी सिर में चोट आयी है. सभी डकैतों ने ट्रेन पर पत्थरबाजी और फायरिंग करते हुए भाग गये. सभी घायलों को पटना साहिब रेलवे स्टेशन पर उतारा गया है. पटना साहिब जीआरपी के प्रभारी प्रद्युमन सिंह ने बताया कि घायल यत्रियों का बयान लिया गया है. केस दर्ज किया जा रहा है.क्या कहते हैं अधिकारीपटना के रेल एसपी अशोक कुमार सिंह ने बताया कि कोसी एक्सप्रेस में लूटपाट की गयी है. मौके का मुआयना कर तीन स्पेशल टीमें बनायी गयी हैं. रात में ही छापेमारी शुरू कर दी गयी है. बहुत जल्द डकैत पकड़ लिये जायेंगे. कुछ यात्री गंभीर रूप से घायल हुए हैं, लेकिन लूटपाट ज्यादा नहीं हुई है. कुछ लोगों का मोबाइल फोन लूटा गया है. जीआरपी मामले की छानबीन में जुटी है.पहले भी पटना-मोकामा रेलखंड पर टारगेट करते रहे हैं ट्रेन डकैतपटना-मोकामा रेलखंड पहले भी डकैतों के निशाने पर रहा है. अक्सर डकैतों का गैंग रात में धावा बोलता है. यह लोग ज्यादातर उन ट्रेनों को टारगेट करते हैं, जिनमें स्कॉर्ट पाटी नहीं चलती है. इसे लेकर ट्रेन में सफर करनेवाले लोग अपने को सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे हैं. वहीं, सुरक्षित सफर की व्यवस्था करना पुलिस के लिए भी चुनौती बनी है. पुलिस सूत्रों की मानें, तो सभी ट्रेनों में सुरक्षा बल देना संभव नहीं है. अमूमन असामाजिक तत्व रेकी कर ऐसे ट्रेनों को टारगेट करते हैं, जिसमें सुरक्षा बल नदारद रहते हैं. केवल प्रमुख ट्रेनों में ही जवानों की ड्यूटी लगती है. खास कर जिस ट्रेन में वारदात हो चुकी है, उस ट्रेनों की सुरक्षा का खयाल रखा जाता है. इसका फायदा उठा कर अपराधी दूसरे ट्रेनों के यात्रियों को निशाना बना डालते हैं. अक्सर विलंब से चलनेवाली ट्रेनों में तालमेल के अभाव में पुलिसकर्मियों की तैनाती नहीं हो पाती. पैसेंजर ट्रेनें तो भगवान भरोसे ही चलती हैं. लूप लाइन से होकर गुजरने वाली ट्रेनों में अक्सर सुरक्षा व्यवस्था का अभाव रहता है.बख्तियारपुर से पटना सिटी के बीच का इलाका डेंजर जोनरामपुरडुमरा जंक्शन से राजेंद्र पुल और बख्तियारपुर से पटना सिटी के बीच का इलाका डेंजर जोन माना जाता है. रामपुर डुमरा से राजेंद्र पुल तक रेलवे लाइन के किनारे पूरी तरह से सन्नाटा रहता है. इसका फायदा अपराधियों को मिल जाता है. फतुहा के आसपास के इलाके में शराब माफिया सक्रिय हैं. ट्रेनों से शराब की तस्करी के साथ यात्रियों से छिनतई और लूटपाट आम बात हो गयी है. पुलिस की कड़ी कार्रवाई के बाद भी अपराधी ताबड़तोड़ वारदात कर रहे हैं.हाल की घटनाएं
4 दिसंबर 2017 : टेकाबीघा झकरौटा के बीच दानापुर-राजगीर- तिलैया पैंसेजर में लूटपाट
4 दिसंबर 2017 : बाढ़ व मोकामा स्टेशन के बीच ब्रह्मपुत्र मेल में मारपीट से भगदड़
27 नवंबर 2017 : बख्तियारपुर व पटना सिटी के बीच आसनसोल-मुंबई एक्सप्रेस में लूटपाट
5 अक्तूबर 2017 : झमोर व मोकामा के बीच अपर इंडिया एक्सप्रेस में मारपीट
7 सितंबर 2017 : बाढ़ व मोर के बीच वक्रिमशीला एक्सप्रेस में मारपीट
6 सितंबर 2017 : पटना- सहरसा कोसी एक्सप्रेस में जम कर मारपीट
  
कानपुरउत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से मुंबई जा रही पुष्पक एक्सप्रेस को पलटाने की साजिश की गई थी। ट्रेन हादसे के लिए एक बाइक रेलवे ट्रैक पर उन्नाव जिले के गंगाघाट के पास डाल दी गई थी। हालांकि ड्राइवर की सूझबूझ से बड़ा हादसा टल गया। ड्राइवर ने इमरजेंसी ब्रेक लगाया और झटके से ट्रेन रुक गई। गंगाघाट पुलिस ने इस मामले की जांच शुरू कर दी है।पुष्पक एक्सप्रेस रविवार की रात लखनऊ से मुंबई जाने के लिए निकली। लकनऊ से ट्रेन कानपुर पहुंचने वाली थी लेकिन उन्नाव के गंगाघाट पुलिस चौकी के पास रेलवे ट्रैक पर ड्राइवर को एक बाइक नजर आई। ड्राइवर ने इमरजेंसी ब्रेक लगाई तो यात्रियों में हड़कंप मच गया। सभी ट्रेन रुकते ही बाहर उतर आए। रेलवे के अधिकारी और पुलिस मौके पर पहुंची। बाइक टीवीएस स्पोर्ट्स लालरंग की थी लेकिन उसके दूर-दूर तक वहां कोई नहीं था।पढ़ेंः टल गया बड़ा ट्रेन हादसागंगाघाट कोतवाली के एसएचओ...
more...
दिनेश मिश्रा ने बताया कि उन्हें सूचना मिली कि छमक नाली पुलिया और सरैया क्रासिंग के बीच पटरी पर बाइक से ट्रेन टकराई है। बाइक का एक टुकड़ा इंजन में फंस गया तो ड्राइवर ने इमरजेंसी ब्रेक लगाई। इससे बड़ा हादसा होने से बच गया। सूचना पाकर वे लोग मौके पर पहुंचे। मौके पर जो बाइक मिली है वह बिना रजिस्ट्रेशन नंबर की थी।पढ़ेंः आधे घंटे पहले छूटी दूरंतो एक्सप्रेस, दूसरी ट्रेन के पैंट्री कार में मुंबई पहुंचे यात्रीपुलिस ने वहां आसपास लोगों से भी पूछताछ की लेकिन अभी कुछ पता नहीं चला। पुलिस ने आसपास बने घरों में भी पड़ताल की है लेकिन किसी को उस बाइक के बारे में कोई जानकारी नहीं है। पुलिस ने बताया कि हो सकता है कि कुछ शराबी लोगों ने वहां बाइक लाकर डाली हो। हालांकि पुलिस बाइक के इंजन और चेसिस नंबर से उसके मालिक का पता लगा रही है।इस खबर को अंग्रेजी में पढ़ें
Page#    76 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy