Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Topic
 #
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 PNR Ref
 PNR Req
 Blank PNRs
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
dark mode

There is no more pure joy than RailFanning.

Full Site Search
  Full Site Search  
FmT LIVE - Follow my Trip with me... LIVE
 
Fri Aug 19 17:46:14 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Quiz Feed
Topics
Gallery
News
FAQ
Trips
Login
Advanced Search

News Posts by Jai Jawan Jai Kisan❤️

Page#    Showing 1 to 5 of 33 news entries  next>>
Jun 04 (06:26) State to get its first Vande Bharat trains, Mum-Pune one of the routes finalised (www.google.com)
0 Followers
6024 views

News Entry# 488131  Blog Entry# 5366473   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
Subscribe Now! Get features like

MUMBAI In what can be called a major boost for rail travel in Maharashtra, the state is set to get its first Vande Bharat trains and Mumbai and Pune has been finalised as one of the routes. The semi-high speed trains are the fastest among the ones in the Indian Railways.

The
...
more...
time to travel between the two cities will be reduced to 150 minutes or two-and-a-half hours after the Vande Bharat trains are introduced between the routes. Although the railway ministry is yet to finalise on a date, the two new trains are expected to start operations by August 15.

Currently, the fastest train between the two cities is Deccan Queen that has a travel time of three hours and 10 minutes.

“We took the decision to introduce Vande Bharat trains between the two cities because the trains have chair cars and can be operated smoothly on the route,” said a senior Central Railway official.

Presently, the Vande Bharat trains only have chair cars as its seating arrangement and hence, the Mumbai-Pune route has been selected. The railway ministry will be introducing the phase 2 of Vande Bharat trains with AC sleeper in 2023, which is likely to be introduced between Chhatrapati Shivaji Maharaj Terminus (CSMT) in Mumbai and Firozpur Cantonment railway station in Punjab.

“We plan to operate the AC sleeper Vande Bharat trains between Mumbai and Punjab. At present, it takes nearly 33 hours to travel between the two states, which will be drastically reduced,” added the senior Central railway official.

Further, the railway ministry, in a letter to zonal railways in May, stated that Wadi Bunder railway yard at Mazgaon and Jogeshwari will be used to make depots for the maintenance.

The Central and Western Railway had been asked to inspect the locations and plan for the development and upgradation for the maintenance infrastructure of the Vande Bharat trains.

Transport experts said that these new trains will be a game changer between Mumbai and Pune, but will have constraints in the ghat section. “It certainly will help people travelling regularly for work as it will save commuting hours. However, the operating speed in the ghat section can be a concern. Also, they should upgrade the tracks to handle the speed of the train,” said transport expert AV Shenoy.

Headline: First in Maharashtra

Travel time between Mumbai and Pune

Time taken to travel by road: 3 hours

Time taken by outstation train: 3 hours 10 minutes

Vande Bharat will take: 2 hours 30 minutes

Operating speed of train: 130 kmph

On some railway sections, Vande Bharat has also been operated upto 160 kmph

Maximum speed of the train: 200 kmph

*The trains require maintenance after 3,500 km

#Vande Bharat trains are operational between New Delhi and Varanasi, New Delhi and Katra.

#Second Phase of Vande Bharat trains expected between Mumbai and Punjab.

Less time to read?

Try Quickreads

Mumbai: Man gets death penalty for sexually assaulting and killing minor in 2019

While delivering the verdict, the special POCSO court said that the accused could not be allowed to stay in society because, once released, he may repeat the same offence. The court also refused to grant the accused leniency, declaring out that such a man who abused minor girls one after another did not deserve the same.

‘Yet to get his wedding album’: Bank manager killed in J&K married 3 months ago

Vijay Kumar Beniwal's father, Om Prakash Beniwal, who is a teacher in a government school in Nohar tehsil of Hanumangarh, said, “I spoke to him last night. Today at 11am, when I was having food, someone called me and said that there was news running on TV that Vijay Kumar was shot at. I immediately switched on the TV and saw the same.”

Covid-19: Maharashtra CM convenes task force meeting today as cases rise

On Wednesday, Brihanmumbai Municipal Corporation (BMC) commissioner Iqbal Singh Chahal directed officials to intensify testing for Covid-19 on a war footing and ask the staff of jumbo field hospitals to be vigilant in view of the significant rise in cases over the past few weeks. The civic body officials said they are expecting a further increase in daily infection rates as well as in the number of symptomatic patients.

Child dies due to encephalitis in Muzaffarpur, toll in Bihar reaches 4 this year

The total number of deaths in the state due to Japanese encephalitis (JE) and AES, which is a cluster of diseases, involving the brain, has now gone up to four this year. Of these, three deaths were known cases of AES and one of JE. One death each has been reported from Sitamarhi, Vaishali, Patna and Muzaffarpur district, said state health officials. SKMCH superintendent, Dr Babu Saheb Jha confirmed that the child died of AES on May 31.

Stone pelting in Rajasthan's Chittorgarh after ex-BJP councillor's son's death

The deceased was identified as Ratan, a resident of the Gandhinagar area of Chittorgarh. He was reportedly attacked by some unknown assailants at the Shivaji Circle on Tuesday night. Chittorgarh superintendent of police (SP), Preeti Jain told ANI that Section 144 of the IPC was yet to be imposed in the region and internet services have also not been snapped as of now.

Personalise your news feed. Follow trending topics

Sign in to continue reading
रेलवे यूजर्स कमेटी ने स्टेशन का नाम बदलने का प्रस्ताव भी दिया है।

अभी तक आगरा में दो बडे़ रेलवे स्टेशन हैं। इसमें आगरा कैंट और फोर्ट स्टेशन पर ही यात्री सुविधा ठीकठाक हैं। ऐसे में ट्रेनों और यात्रियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए रेलवे ने अब ईदगाह रेलवे स्टेशन की तस्वीर बदलने की योजना बना ली है। आगरा फोर्ट स्टेशन पर जगह की किल्लत को देखते हुए ईदगाह स्टेशन पर यात्रियों के लिए सहूलियत बढ़ाई जाएंगी। इसके अलावा ईदगाह स्टेशन का नाम बदलने का प्रस्ताव भी रेलवे को मिला है।
...
more...


ईदगाह तक होगी डबल लाइनआगरा शहर के बीचोंबीच पुलिस लाइन के पास स्थित ईदगाह रेलवे स्टेशन अब रेल प्रशासन के सुधार एजेंडे में शामिल हो गया है। आगरा कैंट और आगरा फोर्ट रेलवे स्टेशन पर विस्तार की संभावना नहीं है। ऐसे में अब रेलवे ने ईदगाह रेलवे स्टेशन को यात्री सुविधाओं से लैस करने की तैयारी की है।

आगरा रेल मंडल के डीआरएम आनंद स्वरूप ने बताया कि ईदगाह रेलवे स्टेशन पर सुविधाएं बढ़ने की तैयारी है। अभी फोर्ट से ईदगाह स्टेशन तक सिंगल लाइन है। यहां पर डबल लाइन को मंजूरी मिल गई है। ऐसे में डबल लाइन होने से आगरा बांदीकुई के बीच ट्रेनों की संख्या बढे़गी। फिलहाल स्टेशन पर कुछ ही मेल/एक्सप्रेस ट्रेनों का ठहराव है। बाकी आधा दर्जन पैसेंजर/ईएमयू/डीएमयू रुकती हैं।

स्टेशन के विकास के साथ-साथ यहां पर अधिक ट्रेनों का ठहराव, आगरा फोर्ट से चलने वाली कुछ ट्रेनों को ईदगाह स्टेशन से चलाने की तैयारी होगी। रेलवे का मकसद स्टेशन पर यात्रियों की संख्या बढ़ाना है। इसके लिए उन्हें सुविधाएं मुहैया करानी होंगी।

आगरा सेंट्रल हो सकता है ईदगाह स्टेशन का नामईदगाह स्टेशन का नाम बदलने को लेकर रेलवे यूजर्स कमेटी की ओर से प्रस्ताव दिए गए हैं। इसका नाम ईदगाह की जगह आगरा सेंट्रल करने का प्रस्ताव है। डीआरएम ने बताया कि इस तरह के प्रस्ताव रेलवे यूजर्स कमेटी की ओर से मिले हैं। अभी रेलवे की प्राथमिकता स्टेशन पर यात्री सुविधा बढ़ाने की है।

अभी केवल एक फुटओवर ब्रिज और दो एंट्रीफिलहाल ईदगाह रेलवे स्टेशन पर अभी केवल एक फुटओवर ब्रिज, तीन प्लेटफार्म, दो एंट्री गेट हैं। स्टेशन की खासियत है कि यह करीब आधे शहर को कवर कर सकता है। देश के पूर्वी हिस्से को पश्चिमी हिस्से से जोड़ने वाली लाइन स्टेशन से गुजरती है। रेल प्रशासन स्टेशन का विकास करता है तो यहां पर एस्केलेटर, लिफ्ट, अतिरिक्त एफओबी, पीआरएस काउंटर की बढ़ोत्तरी, जनरल टिकट विंडो में बढ़ोत्तरी, वाटर एटीएम, एसी वेटिंग रूम, क्लॉक रूम, खानपान स्टॉल में बढ़ोत्तरी करनी होगी।ट्रेनों का बढ़ेगा ठहराव तो आएंगे यात्री

Copyright © 2022-23 DB Corp ltd., All Rights Reserved

This website follows the DNPA Code of Ethics.
राजस्थान

अपना शहर चुनें

राज्य
...
more...

Delhi-Ahmedabad Bullet Train Latest News: अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन (Mumbai-Ahmedabad Bullet Train Project Latest News) परियोजना के बाद, गुजरात में जल्द ही अहमदाबाद-दिल्ली रूट पर दूसरी हाई स्पीड रेल परियोजना शुरू होने वाली है. रेल मंत्रालय ने सर्वे और एक विस्तृत परियोजना (Rajasthan Bullet Train Map) रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार करने का फैसला लिया है. रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने संसद में एक लिखित जवाब में यह जानकारी दी. फिलहाल, मुंबई-अहमदाबाद हाई स्पीड ट्रेन देश में एकमात्र स्वीकृत बुलेट ट्रेन (Rajasthan Bullet Train Details in Hindi) परियोजना है जिसे जापान से तकनीकी और वित्तीय सहायता से क्रियान्वित किया जा रहा है. सरकार 7 हाई स्पीड रेल प्रोजेक्ट पर विचार कर रही है जिसमें दिल्ली से अहमदाबाद के बीच हाई स्पीड बुलेट ट्रेन (Rajasthan Bullet train Project) भी शामिल है. यह ट्रेन राजस्थान के 7 जिलों जयपुर, अलवर, उदयपुर, अजमेर, चित्तौड़गढ़, डूंगरपुर और भीलवाड़ा से गुजरेगी.

अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन परियोजना के बाद, गुजरात में जल्द ही अहमदाबाद-दिल्ली हाई स्पीड रेल परियोजना पर काम शुरू होगा. रेल मंत्रालय ने सर्वे और एक विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार करने का फैसला लिया है. रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने शीतकालीन सत्र में संसद में एक लिखित जवाब में यह जानकारी दी थी. फिलहाल, मुंबई-अहमदाबाद हाई स्पीड ट्रेन देश में एकमात्र स्वीकृत बुलेट ट्रेन परियोजना है जिसे जापान से तकनीकी और वित्तीय सहायता से क्रियान्वित किया जा रहा है. सरकार की 7 हाई स्पीड रेल परियोजनाओं की योजना है जिसमें दिल्ली-वाराणसी, दिल्ली-अमृतसर, दिल्ली-अहमदाबाद, मुंबई-नागपुर, मुंबई-हैदराबाद और चेन्नई-बेंगलुरु-मैसूर और वाराणसी-हावड़ा शामिल हैं.

दिल्ली-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन परियोजना (Delhi-Ahmedabad Bullet Train) का सबसे ज्यादा लाभ राजस्थान को मिलेगा. बुलेट ट्रेन राजस्थान (Rajasthan Bullet Train News) के 7 जिलों जयपुर, अलवर, उदयपुर, अजमेर, चित्तौड़गढ़, डूंगरपुर और भीलवाड़ा से गुजरेगी. इस परियोजना से राजस्थान के कुल 337 गांव प्रभावित होने की संभावना है. शुरुआती जानकारी के मुताबिक, प्रोजेक्ट का कुल ट्रैक 875 किलोमीटर लंबा होगा. इसमें से 657 किलोमीटर लंबा ट्रैक राजस्थान के 6 जिलों से गुजरेगा. राजस्थान में कुल 9 स्टेशन प्रस्तावित हैं. दिल्ली के द्वारका के सेक्टर 27 से इस बुलेट ट्रेन का ट्रैक शुरू होगा. हरियाणा के स्टेशन मानेसर और रेवाड़ी में प्रस्तावित हैं. फिर अलवर के रास्ते यह बुलेट ट्रेन राजस्थान में एंट्री लेगी.

बुलेट ट्रेन राजस्थान के 7 जिलों जयपुर, अलवर, उदयपुर, अजमेर, चित्तौड़गढ़, डूंगरपुर और भीलवाड़ा से गुजरेगी. ट्रेन की रफ्तार 320 किलोमीटर प्रति घंटे होगी. राजस्थान में बहरोड़, शाहजहांपुर, जयपुर, अजमेर, विजयनगर, भीलवाड़ा, चित्तौड़गढ़, उदयपुर और डूंगरपुर में स्टेशनों का निर्माण प्रस्तावित है. दिल्ली से अहमदाबाद के बीच हाई स्पीड एलिवेटेड बुलेट ट्रेन चलने से राजस्थान की स्मार्ट सिटी उदयपुर को भी बड़ा फायदा होगा. उदयपुर जिले में 1 किलोमीटर से कम दूरी की 8 टनल बनाई जाएंगी. उदयपुर जिले में कुल 127 किमी का ट्रैक बनेगा.

दिल्ली-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन कॉरिडोर का प्रस्तावित ट्रैक दिल्ली के द्वारका सेक्टर 21 से शुरू होगा और चौमा में गुरुग्राम में प्रवेश करेगा. हरियाणा में मानेसर (गुरुग्राम) और रेवाड़ी में दो स्टेशन प्रस्तावित हैं. फिर यह ट्रैक दिल्ली-जयपुर रेलवे लाइन के साथ अलाइन करने के लिए शाहजहांपुर टोल प्लाजा (हरियाणा-राजस्थान सीमा) पर दिल्ली-जयपुर राजमार्ग में शामिल होगा. राजस्थान में यह कॉरिडोर अलवर के शाहजहांपुर बॉर्डर से प्रवेश करेगा. फिर राष्ट्रीय राजमार्ग 48 के समानांतर जयपुर, अजमेर, भीलवाड़ा, चित्तौड़गढ़, डूंगरपुर में अहमदाबाद तक जाएगा. अधिकारियों का कहना है कि तकनीकी कारणों से पूरे ट्रैक को अलग तरह से बनाया जाएगा.

बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट के लिए उदयपुर जिले में 1 किलोमीटर से कम दूरी की 8 टनल बनाई जाएंगी. इससे यह ट्रैक 5 नदियों के ऊपर से होकर गुजरेगा. बुलेट ट्रेन कॉरिडोर पर दो नए स्टेशन मानेसर और रेवाड़ी प्रस्तावित किए गए हैं. प्रोजेक्ट का सबसे ज्यादा फायदा राजस्थान को होगा, जिसमें दस स्टेशन बनेंगे. राजस्थान में बहरोड़, शाहजहांपुर, जयपुर, अजमेर, विजयनगर, भीलवाड़ा, चित्तौड़गढ़, उदयपुर और डूंगरपुर में स्टेशनों का निर्माण प्रस्तावित है. नेशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड की ओर से दिल्ली से अहमदाबाद हाई स्पीड रेल कॉरिडोर के सर्वे का काम पूरा हो चुका है. राजस्थान में यह कॉरिडोर अलवर के शाहजहांपुर बॉर्डर से प्रवेश करेगा. फिर राष्ट्रीय राजमार्ग 48 के समानांतर जयपुर, अजमेर, भीलवाड़ा, चित्तौड़गढ़, डूंगरपुर में अहमदाबाद तक जाएगा.

दिल्ली-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन का रूट इस तरह से चुना गया है, ताकि भूमि का अधिग्रहण आसानी हो सके. इसके लिए नेशनल हाईवे 48 के समानांतर बुलेट ट्रेन का ट्रैक गुजरेगा. गुजरात में तीन स्टेशन बनेंगे. कुल 15 स्टेशनों में द्वारका (दिल्ली), मानेसर (गुरुग्राम), रेवाड़ी (हरियाणा), बहरोड़, शाहपुरा, जयपुर, अजमेर, विजय नगर, भीलवाड़ा, चित्तौड़गढ़, उदयपुर, डूंगरपुर (राजस्थान), हिम्मत नगर, गांधीनगर और अहमदाबाद (गुजरात) शामिल हैं. दिल्ली-हरियाणा सरकार ने बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है. स्वाइल टेस्टिंग और सड़कों के चौड़ीचरण का काम शुरू हो चुका है. हालांकि आवास एवं शहरी मंत्रालय की ओर अंतिम निर्णय लिया जाना बाकी है. अधिकारियों का कहना है कि जमीन का अधिग्रहण करने में 3-4 साल का समय लग सकता है.



Delhi-Ahemdabad Bullet Train: उदयपुर में बनेंगी 8 सुरंगें, रेवाड़ी से राजस्थान आएगी बुलेट ट्रेन, जानिए सबकुछ
Railway News भारत की पहली सेमी हाइ स्‍पीड ट्रेन वंदे भारत एक्‍सप्रेस को पटना तक चलाने के लिए रेलवे ने तैयारी तेज कर दी है। इसके लिए रेलवे ने दो खास योजनाओं पर काम शुरू कर दिया है।



पटना,
...
more...
जागरण टीम। Bihar Rail News: पूर्व मध्य रेलवे देश की पहली सेमी हाई स्पीड ट्रेन वंदे भारत एक्‍सप्रेस को पटना रूट पर चलाने की तैयारी में जोर-शोर से लगा हुआ है। इसके लिए रेलवे की ओर से दो योजनाओं पर तेजी से काम किया जा रहा है। इन दोनों काम को इसी साल दिसंबर तक पूरा कर लिये जाने की संभावना है। पूरी कवायद का मकसद रेलवे ट्रैक को उच्‍च गति ट्रेनों के परिचालन के लिहाज से सुरक्षित बनाना है। आपको बता दें कि पंडित दीन दयाल उपाध्‍याय जंक्‍शन से बक्‍सर, आरा, पटना, मोकामा के रास्‍ते झाझा तक का रेलवे ट्रैक घनी आबादी वाले इलाके से गुजरता है। इसके कारण रेलवे ट्रैक पर कई बार आम लोगों या मवेशियों के साथ हादसे होते रहते हैं।





रेलवे ट्रैक पर लग रहे अधिक मजबूत स्‍लीपर

पटना से झाझा तक रेलवे की ओर से जहां एक ओर पटरियों को अपग्रेड किया जा रहा है, वहीं डीडीयू जंक्शन से लेकर झाझा स्टेशन तक की रेल पटरी के दोनों तरफ कंक्रीट की छह फीट ऊंची दीवार खड़ी की जा रही है। रेलवे की ओर से इस रेलखंड पर अधिक मजबूत उच्‍च गुणवत्‍ता के स्‍लीपर लगाए जा रहे हैं। इससे ट्रैक अधिक भार झेलने में सक्षम हो सकेगा।





बाउंड्री बनाने पर खर्च होंगे 345 करोड़ रुपए

बताया जा रहा है कि रेलवे ने ट्रैक के दोनों ओर बाउंड्री बनाने के लिए 345 करोड़ रुपए खर्च करने की योजना बनाई है। आपको बता दें कि पीडीडीयू जंक्‍शन से झाझा तक फिलहाल रेलवे ट्रैक पर ट्रेनों के लिए अधिकतम स्‍वीकृत रफ्तार 130 किलोमीटर प्रति घंटे है। कोविड काल से पहले इस ट्रैक पर अधिकतम स्‍वीकृत गति सीमा 110 किलोमीटर प्रति घंटे ही थी। ट्रैक और पुलियों को दुरुस्‍त करने के बाद इसे बढ़ाया गया था। लेकिन, भारत की पहली सेमी हाई स्‍पीड ट्रेन के लिए अधिकतम स्‍वीकृत गति सीमा फिलहाल 160 किलोमीटर प्रति घंटा निर्धारित की गई है। इसे देखते हुए ट्रैक को एक बार फिर अपग्रेड किया जा रहा है। आपको बता दें कि पीडीडीयू - गया सेक्‍शन पर भी ट्रेनों की गति बढ़ाने पर काम हो रहा है।





रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें
विस्तार केंद्र सरकार की ओर से बजट में किए गए 400 नई वंदे भारत ट्रेनों के एलान ने देश में हाई स्पीड ट्रेनों का सपना देखने वाले रेलयात्रियों के लिए नई उम्मीदें जगाईं। अब खुद रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने खुशखबरी देते हुए कहा है कि नई वंदे भारत ट्रेन सेवाओं के मार्गों और समय सारिणी को जल्द ही अंतिम रूप दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि अगस्त-सितंबर से नए रैक आने की उम्मीद है।विज्ञापनवैष्णव ने मध्य रेलवे नेटवर्क पर ठाणे और दिवा के बीच 5वीं और 6ठी लाइन शुरू करने के लिए आयोजित एक कार्यक्रम के बाद पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि 75 वंदे भारत ट्रेनों का निर्माण किया जा रहा है, जबकि केंद्रीय बजट में और 400 रैक बनाने का निर्णय लिया गया है। उन्होंने कहा, ‘‘मार्ग और समय सारिणी को जल्द ही अंतिम रूप दिया जाएगा। देश के सभी हिस्सों को ये सेवाएं मिलेंगी। इन ट्रेनों का...
more...
निर्माण रेलवे के चेन्नई कारखाने में किया जा रहा है। इन ट्रेनों का डिस्पैच अगस्त-सितंबर से शुरू होगा।’’रेल मंत्री वैष्णव ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पुरानी ट्रेनों को नए ‘रोलिंग स्टॉक’ के साथ बदलने की दृष्टि दी थी और दो वंदे भारत ट्रेनें, जो 2019 में शुरू हुईं थीं, दुनिया भर में देश की पहचान बन गईं। उन्होंने यह भी कहा कि ठाणे और दिवा के बीच नई लाइनें यहां परिवहन का एक नया अध्याय हैं, जिससे मुंबई, ठाणे और कल्याण के एक लाख से अधिक लोग सुविधाजनक तरीके से यात्रा कर सकते हैं।
Page#    33 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy